Since: 30 Nov -0001
Follow User Click to receive alerts & updates from "Mini" and Stay Informed.

Mini

Civil Services
Ministry of Defence
X
X
image
TRUTH OF KARMA!!!
image
Happy Teachers Day!!!
image
THINK DIFFERENT !!!
image
catch rains,it's free!!
image
SAVE WATER SAVE LIFE...
image
SAVE WATER SAVE LIFE...
Enter the security code
 
Rate (Mini)
 
Please Click on the submit Button Below to confirm Your Rating. You can also write a short review or testimonial for the user.

Please ensure that you are logged in before submitting the Review or ratings.
  • No result found!
  • friendship
    Created date: 22 Jan 2013
  • obama..SECOND TERM
    Created date: 22 Jan 2013
  • कुछ प्रश्न
    Created date: 23 Nov 2012
View All
View All
View All
  • Coming soon!

Bulletin Board

0
  • No result found!
Page 1 of 4

friendship

X


True friendship multiplies the good in life and divides its evils. Strive to have friends, for life without friends is like life on a desert island?.to find one real friend in a lifetime is good fortune; to keep him is a blessing.

 


Updated -22 Jan 2013

obama..SECOND TERM

X


We may not admire him too much or we may have different opinions about his capabilities as the head of the most powerful nation but he is perhaps one the best speakers/communicators in the world. He is perhaps one of the few leaders who can connect with the people through his oratory. That is why I believe that all good leaders should be good communicators. Way to go, Obama!

Wonder whether our leaders can imbibe even a fraction of his abilities to communicate. Sadly, we have seen none after Vajpayee.


Updated -22 Jan 2013

कुछ प्रश्न

X


एक औपचारिक न्याय-प्रक्रिया 



एक ख़ास अपराध के लिए 



तय करती है सजा के ख़ास मुकम्मल प्रावधान 



और इसी क्रम में मृत्यु के बदले तय हो जाती है मृत्यु 



मृत्यु दुःख देती है 

मृत्यु की प्रतीक्षा की गयी हो तब भी 





मृत्यु के साथ फैलती है 

विस्तार लेती हुई स्मृतियाँ ...जो 

मृत्यु संयोजन में करती है ...



हमारे योगदानों की समीक्षा भी 

हमसे कई प्रश्न उत्तरित नहीं होते 

मसलन .....मृत आदमी के अब और आगे 

जीवित रहने से किस पहाड़ के टूटने की आशंका थी 

या हमने पृथ्वी के किस भार को हल्का कर लिया 



एक मस्तिष्क विहीन सख्श को मारकर 



जिसे धर्म और मुफलिसी ने हत्या की एक मशीन में तब्दील कर दिया था 

यह जो जीवात्मा छोड़ गयी इहलोक 



क्या उसकी कीमत एक हथियार से ज्यादा थी जिसे 



फेंक दिया गया हो क़त्ल में इस्तेमाल करके 



क्या हमें सचमुच का सुकून मिला ? 

क्या समाधान है सारे सवालों का इसके जाने में ?



कुछ प्रश्न सार्वकालिक हैं 



और जिनके जवाब देने से हम बचते रहे हैं 



हमारी क्षमताएं क्या हैं ?



क्या इस फांसी से हमारी छवि एक कठोर राष्ट्र की बनी ?



सुरक्षातंत्र के ढाँचे में हम कहाँ ठहरते हैं?



कसाब के ज़िंदा रहते वार्ता में हमें क्या सफलता मिली 



अब जब एक प्यादा मार दिया हमने तो 



बिसात पर हम किस जीत की तरफ आगे बढे ?



आगे कहाँ तक महफूज़ हैं हम सब , हमारी बिखरी कायनात?



जहां ज़रूरी है अति-सक्रियता वहाँ कैसे चुप रहते हैं हम ? 



जिन मुद्दों पर एक गंभीर मौन का तकाज़ा हो वहाँ 



कैसे हमारा परिचय एक उद्वेलित कौम की तरह बनता है ?

Updated -23 Nov 2012

nobel peace...

X


The Peace Nobel goes to the European Union...notwithstanding the role played by EU in reconciliation and development after WW II, surprised by the choice ...perhaps a diplomatic tonic for an embittered and economically distraught "Union" ...but not as surprising as in 2009 !! Thought Gene Sharp was the right choice...


Updated -12 Oct 2012

happiness!!

X


"Happy people rarely tend to think about happiness. they're too busy living it...


Updated -25 Sep 2012